Saturday, 15 October 2016

भक्ति आंदोलन क्या है ?

Hello friends,,

आज हम भारतिय इतिहास के topic भक्ति आंदोलन को समझेंगे हम आज ये जानेगे कि आखिर क्या है भक्ति आंदोलन इसकी विशेषताएँ  characterstics क्या है ? कौन कौन से संतो ने इसे चलाया आदि l

एक बात में पहले ही बता दूं इसमे मेने कुछ content ही  share करे है जितना मैं जनता हूं ..इसलिए please कोइ विशेष टीका टिप्पणी न करे....

भक्ति आंदोलन क्या है ?

भक्ति आंदोलन हिंदुओं का सुधारवादी आंदोलन movement था l इसमे एकेश्वर , भाई चारा, सभी धर्मो की समानता ,जातीवाद, तथा कर्मकाण्डों की आलोचना की गई है l

भक्ति आंदोलन कब आरम्भ हुआ ? 

बुनियादी तौर पर इसकी शुरूआत दक्षिण भारत में सातवी से बारहवीं शताब्दी के मध्य माना जाता है l जिसका उद्देश्य नयनार तथा अलवार संतो के बीच मतभेद को समाप्त करना था l इस आंदोलन के प्रथम प्रचारक शंकराचार्य माने जाते हैं l 

 http://6to12classnote.blogspot.com

नयनारों और अलवारों ने क्या किया ? 

शैव नयनारों तथा वैष्णव अलवारों ने जैनियों और बौध्दों के http://6to12classnot.blogspot.com अपरिग्रह को त्याग कर ईश्वर के प्रति व्यक्तिगत भक्ति को मार्ग बता कर नये भक्ति मार्ग का संदेश समस्त दक्षिण भारत को दिया l

भक्ति आंदोलन की विशेषताएँ क्या थी ? 

1 - भक्ति की अवधारणा assumption का अर्थ एकेश्वर के प्रति सच्चा प्रेम और निष्ठा है l


2 - भक्ति आंदोलन द्वारा उपासना के लिए कर्मकाण्डों तथा यज्ञो़ं का परित्याग किया गया l

3 - भक्ति आंदोलन में समानता पर बल दिया गया जिसमे जाति या धर्म पर आधारित भेदभाव की मनाही थी l

5 - भक्ति आंदोलन के सिध्दान्त सूफी संतो की शिक्षाओ से मेल खाते थे l

भक्ति आंदोलन के प्रमुख संतो के नाम :- 


* रामानुज
* माधवाचार्य
* रामानन्द
* कबीर
* रविदास
* दादू
* गुरूनानक
* चैतन्य
* वल्लभाचार्य
* मीराबाई
* सूरदास
* तुलसीदास आदि l

Next topic coming soon

http://6to12classnote.blogspot.com